आज के सुविचार
  •   okluk] Øks/k vkSj ykyp ujd tkus dh rhu }kj gaSA

  •   tks O;fDr ifo= vkSj lglh gS oks dqN Hkh dj ldrk gSA

  •   la;e] lR;rk] lgu”khyrk vkSj lgh lksp fey tk, rks bZ”oj vius vki fey tkrs gSaA

  •   vkidk drZO; gh /keZ gS] izse gh bZ”oj gS] lsok gh iwtk gS vkSj lR; gh HkfDr gSA

  •   pfj=oku O;fDr gh fdlh jk’Vª dh okLrfod lEink gSaA

  •   ekuo thou dk ewy mn~ns”; lekt dh lPph lsok djrs gq, vkREk dY;k.k djuk gSA

  •   izlUurk ,d vkuqoaf”kd ifj.kke gSA tc vki viuh n`f’V esa “kqHk dk;Z djrs gSa] rks izlUurk LOk;a gh pyh vkrh gSA

  •   fj.kke gSA tc vki viuh n`f’V esa “kqHk dk;Z djrs gSa] rks izlUurk LOk;a gh pyh vkrh gSA

  •   कोई व्यक्ति जब स्वतंत्रता एवं खुशी का अनुभव करता है तब वह बेहतर ढंग से ही जी रहा होता है।

  •   thou fdlh unh&lk gksrk gS] tks lnSo xfr”khy thoar vkSj le`) gksrk gSA

Online Affidavit
NAAC SSR:
SSR Cycle-I in Hindi
SSR Cycle-I in English
AQAR 2015-16   

IQAC
Content No.1
Hyper Link to:
National Council for Teachers Education (NCTE), New Delhi
National Council for Teachers Education (NCTE), Northern Regional Committee, Jaipur
Deen Dayal Upadhyay Gorakhpur University, Gorakhpur

Document For B.Ed.

महाराणा प्रताप महाविद्यालय एक परिचय

Image

शिक्षा के प्रयास को लोक जागरण एवं राष्ट्रीय पुनर्निर्माण का सशक्त माध्यम स्वीकार करते हुए ब्रह्मलीन महन्त दिग्विजयनाथ जी महाराज ने शैक्षिक दृष्टि से अत्यन्त पिछड़े पूर्वी उत्तर प्रदेश के केन्द्र एवं अपनी कर्मस्थली गोरखपुर में प्राथमिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक की शिक्षण संस्थाओं को संचालित करने हेतु महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद्‌ की १९३२ ई० में स्थापना कर शिक्षा के क्षेत्र में अपनी अविस्मरणीय भूमिका की नींव रखी। महाराणा प्रताप स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जंगल धूसड , गोरखपुर महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद्‌ द्वारा

तत्काल समाचार

तत्काल सूचना